Astrologer in India

Everyone wants to subdue someone. Vashikaran was produced for thousands of years by the gods and goddesses to find out the truth from their enemies. After that it was used by our ancestors. Those who used to fulfill their needs but in the present time people have to get their love, destroy the enemy, and do somebody to subdue themselves. Some vashikaran mantras were rebuilt and replaced with a new form. All religions are known by different names such as Hindu Vashikaran in Hinduism, and in Muslim religion it is known as Muslim Vashikaran. All of these are connected in some form or another, because their work is the same. In this, you are talking about the Mantras of Muslim Vashikaran, which is a very economical mantra which was designed by the astrologers keeping in mind the rules of vashikaran.


“आगिशनी माल खानदानी। इन्नी अम्मा, हव्वा यूसुफ जुलैखानी। ‘फलानी’ मुझ पै हो दीवानी। बरहक अब्दुल कादर जीलानी।”

विधिः- इस मंत्र का पूरा प्रयोग 21 दिन का होता है, लेकिन इसका प्रभाव 11 दिन में ही दिखाई देने लगता है। इस प्रयोग का दुरुपयोग कदापि नहीं करना चाहिए, अन्यथा स्वयं को हानि होने की सम्भावना हो सकती है। इस मंत्र को सिद्ध करते समय में मांस, मछली, लहसुन, प्याज, दूध, दही, घी आदि वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए। सबसे पहले आप स्नान करके स्वच्छ वस्त्र पहन कर मंत्र की सिद्धि शुरू करनी चाहिए। पवित्रता का पूर्ण ध्यान रखा जाना चाहिए। लम्बी धोती या स्वच्छ वस्त्र को ‘अहराना’ की तरह बाँध कर साधना करनी चाहिए। शेष बची हुई धोती या कपड़े को शरीर पर लपेटते हुए सिर को ढँक लेना चाहिए। एक ही कपड़े से पूरा शरीर ढँकना चाहिए, जैसे स्त्रियाँ पहनती है। इस मन्त्र की साधना रात्रि में, जब ‘नमाज’ आदि का समय समाप्त हो जाता है, तब करनी चाहिए। साधना करने से पहले मुसलमानी विधि से वजू करे। हो सके, तो नहा ले। जप या तो हिन्दू-विधि से करे या मुसलमानी विधि से। इस मंत्र का प्रतिदिन ११०० बार जप करना है।